रोजाना स्पिरुलिना का सेवन करने के कुछ अविश्वसनीय लाभ 

All Image Source: Freepik

20- September-2022

Spirulina सबसे अधिक पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों में से एक है इसे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए पूरक के रूप में लिया जा सकता है।

स्पिरुलिना कैप्सूल और पाउडर दोनों में उपलब्ध है जिसे पानी के साथ लिया जा सकता है या सलाद और स्मूदी में मिलाया जा सकता है। 

स्पिरुलिना समुद्र का उपोत्पाद होने के बावजूद, एक शाकाहारी पूरक है, जो सभी के लिए उपभोग के लिए सुरक्षित है।

रोजाना स्पिरुलिना का सेवन करने के कुछ अविश्वसनीय लाभ 

एलर्जी के लक्षणों को कम करता है स्पिरुलिना

इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा, सोडियम, जस्ता, तांबा, फास्फोरस और क्रोमियम जैसे खनिज होते हैं जो एलर्जी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

वजन घटाने के लिए स्पिरुलिना

कई अध्ययनों में ऐसा पाया गया है कि स्पिरुलिना का नियमित रूप से सेवन करने से चयापचय को बढ़ावा मिलता है जो वजन घटाने में तेजी ला सकता है।

विषहरण में मदद करता है स्पिरुलिना

इसमें मौजूद खनिज पारा, सीसा, आर्सेनिक और फ्लोराइड जैसे विभिन्न प्रदूषकों के विषाक्त प्रभावों को कम कर सकते हैं।

मधुमेह और रक्तचाप पर नियंत्रण

रोजाना स्पिरुलिना का सेवन करने से उच्च रक्तचाप और मधुमेह के खतरे को कम किया जा सकता है। 3 महीनों तक रोजाना 4 ग्राम स्पिरुलिना सप्लीमेंट लेने से ब्लड शुगर और बीपी को नियंत्रित किया जा सकता है।

स्पिरुलिना के इन सभी लाभों के बावजूद, इसकी कुछ सीमाएँ हैं। जिसका ध्यान रखना आपके लिए बेहद जरुरी है| 

यह बेहद जरुरी है कि इसे एक विनियमित मात्रा में लिया जाना चाहिए। एक दिन में 3-4  ग्राम स्पिरुलिना सुझाई गई मात्रा है।

इससे अधिक मात्रा में इसका सेवन न करें क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य में हस्तक्षेप कर सकता है।

और इसके अलावा जिन लोगों को हृदय रोग, गंभीर एलर्जी, ऑटोइम्यून स्थितियां, रक्तस्राव विकार आदि हैं, उन्हें स्पिरुलिना पूरक नहीं लेना चाहिए।

और जो लोग ब्लड थिनर लेते हैं उन्हें भी स्पिरुलिना का सेवन करने से बचना चाहिए। स्पिरुलिना पूरक को शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर कर लें| 

Watch More Stories On Netvani...