भारत होगा ‘नाटो प्लस देशों’ की सूची में शामिल? अमेरिका के शीर्ष दो सीनेटरों ने किया संशोधन विधेयक पेश

Last Updated on

,
Two US senators introduce legislations to strengthen India-US defence ties
Image Source : PTI
वाशिंगटन: अमेरिका में सत्तारूढ़ रिपब्लिकन और विपक्षी डेमोक्रेट के शीर्ष दो सीनेटरों ने भारत के साथ सैन्य संबंध मजबूत करने, खास तौर पर पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमान और सैन्य क्षेत्र में संयुक्त अनुसंधान और विकास में तेजी लाने के लिए एक संशोधन विधेयक पेश किया है।
राष्ट्रीय रक्षा प्राधिकरण अधिनियम (एनडीएए) 2021 में एक संशोधन को आगे बढ़ाते हुए, सीनेटर मार्क वार्नर और सीनेटर जॉन कॉर्निन ने रक्षा मंत्री मार्क एस्पर से पूछा है कि वह आकलन करें कि रक्षा और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों पर अमेरिका-भारत निजी क्षेत्र के सहयोग के लिए क्या ‘इज़राइल-यूएस बाईनेशनल इंडस्ट्रियल रिसर्च एंड डेवलपमेंट फाउंडेशन’ मॉडल बन सकता है।
वार्नर प्रतिनिध सभा की खुफिया मामलों की शक्तिशाली समिति के उपाध्यक्ष हैं और कॉर्निन रिपब्लिकन व्हिप हैं। दोनों शक्तिशाली सीनेटर इंडिया कॉकस के सह-अध्यक्ष हैं। संशोधन विधेयक में रक्षा मंत्री से अमेरिका और भारत के बीच रक्षा और संबंधित औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकी अनुसंधान, विकास के अवसरों तथा कर्मियों के आदान-प्रदान पर एक संक्षिप्त जानकारी प्रदान करने को भी कहा गया है।
सीनेटर कॉर्निन ने एक अन्य संशोधन में रक्षा मंत्री को कानून पारित होने के 180 दिनों के भीतर भारत को अमेरिका की पांचवीं पीढ़ी के फाइटर जेट कार्यक्रम पर जानकारी देने को भी कहा। संशोधन में पेंटागन से कांग्रेस के लिए दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए सिफारिशें और ब्रीफिंग में शामिल विषयों पर एक रिपोर्ट मांगी गई है क्योंकि भारत अपनी पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमान का विकास खुद कर रहा है।
भारत को शीर्ष गुप्त अमेरिकी रक्षा प्रौद्योगिकी और उपकरण मुहैया कराने के मद्देनजर कॉर्निन और वॉनर ने भारत को इज़राइल और न्यूजीलैंड की तरह ‘नाटो प्लस देशों’ की सूची में शामिल करने के लिए संयुक्त रूप से एक अन्य संशोधन भी पेश किया।
Go to Source

%d bloggers like this: