पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति चौपट

Nevani  Beauro  : पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार के एक वर्ष के कार्यकाल में पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति और खराब हो गयी है तथा 2018-19 में देश का वित्तीय घाटा उसके इतिहास का सर्वाधिक 8.9 प्रतिशत पर पहुंच गया है .

वित्त मंत्रालय की ओर से दिये गये आंकड़ों के अनुसार 2018-19 में वित्तीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद के रिकॉर्ड 8.9 प्रतिशत पर आ गया है अर्थात 34 खरब 44 अरब रुपये हो गया जो बजट लक्ष्य का 82 प्रतिशत अधिक है . बजट में वित्तीय घाटा 19 खरब रुपये होने का अनुमान लगाया गया था .

पाकिस्तान आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक यह घाटा 1979-80 के बाद से अब तक का सबसे बड़ा घाटा है . जून 2019 में इमरान सरकार ने वित्तीय घाटे को सकल घरेलु उत्पाद का 7.1 प्रतिशत पर लाने की संभावना जतायी थी जबकि वर्ष की शुरूआत में लक्ष्य 4.9 फीसदी था .

इस वर्ष 30 जून को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष के दौरान खर्च और राजस्व मामलों समेत सभी प्रमुख वित्तीय सूचकांकों में भारी गिरावट दर्ज की गयी . आंकड़ों के मुताबिक खर्च घटाने के सभी प्रयास विफल साबित हुए तथा वित्तीय वर्ष के पहले तिमाही में ही राज्स्व वसूली में भारी गिरावट देखी गयी .

Leave a Reply

Your email address will not be published.