जेल में बंद लालू यादव कर रहे कश्मीरी सेब को मिस

Ravi  Anand  Patna  : जेल में बंद बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री और आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव को इन दिनों अपने पसंदीदा कश्‍मीरी सेबों से महरूम रहना पड़ रहा है . लालू यादव  इन दिनों रांची के रिम्‍स अस्‍पताल में इलाज करा रहे हैं और डॉक्‍टरों ने उन्‍हें ब्रेकफास्‍ट में हर दिन दो सेब, चार अंडे, बादाम, अखरोट और एक आम खाने की सलाह दी है . हालांकि कश्‍मीर में जारी बंद जैसी स्थिति की वजह से उन्‍हें बेहद रसीले कश्‍मीरी सेब खाने को नहीं मिल रहे हैं .

लालू यादव कश्मीरी सेब  के मुरीद हैं और किसी अन्‍य जगह का सेब वह बहुत कम खाते हैं . लेकिन कश्‍मीर घाटी में जारी तनाव की वजह से इन दिनों रांची में कश्‍मीरी सेबों की आवक बेहद कम हो गई है . लालू यादव के स्‍वास्‍थ्‍य की लगातार जांच करने वाले डॉक्‍टर डीके झा ने कहा, ‘हमने उन्‍हें प्रतिदिन दो सेब खाने की सलाह दी है ताकि उन्‍हें फाइबर और विटामिन मिल सके .

सेब में बहुत कम चीनी होता है . इसलिए शूगर की बीमारी से पीड़‍ित लोगों को इसे खाने की सलाह दी जाती है . हालांकि हमने लालू यादव को किसी खास तरह के सेब को खाने की सलाह नहीं दी है . इससे पहले लालू यादव बहुत ज्‍यादा आम खा रहे थे, इस वजह से उनका ब्‍लड शूगर बढ़ गया था . डॉक्‍टरों ने इस पर चिंता जताई थी . डॉक्‍टरों ने उन्‍हें एक दिन में केवल एक आम खाने के लिए सख्‍त हिदायत दी थी .

हॉस्पिटल में लालू यादव के करीबी साथी सुरिंदर यादव ने बताया कि आरजेडी चीफ लंबे समय से कश्‍मीरी सेबों की प्रतीक्षा कर रहे हैं . उन्‍होंने कहा, ‘लालू यादव लंबे समय से टेस्‍ट और मिठास की वजह से कश्‍मीरी सेबों को पसंद करते हैं . यह औरों की अपेक्षा कम पैसे में मिल भी जाता है . हालांकि इस समय मार्केट में कश्‍मीरी सेब उपलब्‍ध नहीं हैं . हमने पूरे रांची शहर में इसकी तलाश की है .

लालपुर इलाके में फल व्‍यवसायी मोहम्‍मद नइमुद्दीन ने बताया कि अभी तक कश्‍मीरी सेब रांची के बाजार में नहीं आए हैं . उन्‍होंने कहा कि अगले एक पखवाड़े में ये सेब बाजार में आ सकते हैं . उन्‍होंने कहा कि कश्‍मीर में सामानों की आवाजाही पर प्रतिबंधों की वजह से सेब की आवक कम हुई है . बता दें कि चारा घोटाल में लालू यादव सजा काट रहे हैं लेकिन खराब स्‍वास्‍थ्‍य की वजह से उन्‍हें रिम्‍स में भर्ती कराया गया है .

Leave a Reply

Your email address will not be published.