कश्मीर में आतंकवादी हथियारों की तंगी से जूझ रहा है…

शीर्ष सैन्य अधिकारियों के मुताबिक आर्टिकल 370 के बाद से पाकिस्तानी एजेंसी लगातार जम्मू और कश्मीर में आतंकी हमला और स्थिति खराब करने की कोशिश में लगी हुई है। एलओसी पर पाकिस्तान ने 20 आतंकी कैंपों और लॉन्चपैड ऐक्टिव कर दिए हैं। उनकी कोशिश है कि ठंड शुरू होने से पहले आतंकी भारत में घुसपैठ कर जाएं।

जम्मू और कश्मीर में सुरक्षाबलों की मुस्तैदी की वजह से पाकिस्तान यहां पर सक्रिय आतंकवादियों को हथियारों की सप्लाइ नहीं कर पा रहा है। इस वजह से घाटी के आतंकी अपने नापाक मंसूबों के लिए पुलिसकर्मियों के हथियारों को छीन रहे हैं। भारतीय सेना के अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी।

नॉदर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (जीओसी) लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने जानकारी देते हुए बताया, ‘हथियारों की सप्लाइ में दिक्कत के बाद पड़ोसी देश जम्मू और कश्मीर में दूसरे रास्तों की तलाश कर रहा है। इसी में से एक तरीका है पुलिस और सुरक्षाबलों से हथियार छीन लेना।’

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा, ‘कश्मीर में आतंकवादी हथियारों की तंगी से जूझ रहे हैं। इसी वजह से वे पुलिस स्टेशन पर हमला कर जवानों से हथियार छीनने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। पाकिस्तान इससे बहुत परेशान है और घाटी में हथियार भेजने की अलग-अलग तरीके के कोशिश कर रहा है।’

पंजाब से सटे सीमावर्ती क्षेत्रों में ड्रोन दिखने की घटना के बाद यह टिप्पणी आई है। खुफिया विभाग के सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी ड्रोन की मदद से पंजाब में करीब 10 किलोग्राम विस्फोटक, गोला बारूद और संचार के उपकरणों की तस्करी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.