ऐसे में अब तो हारेगा ही अफ्रीका

अब अफ्रीका पर पारी का हार खतरा

पहले विराट बल्लेबाजी फिर गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी ने दक्षिण अफ्रिका के पांव आखिरकार उखड़ गए। पुणे में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारत के तेज गेंदबाजों के नाम रहा। दिन के आखिरी सेशन में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को उसकी पहली पारी में 275 रनों पर समेट दिया। जब रबाडा का आखिरी विकेट गिरा तो लगा कि विराट फॉलो ऑन लेंगे इतने में  अंपायरों ने दिन के खेल खत्म होने का ऐलान कर दिया। हालांकि पहली पारी में 601 रन बनाने वाली भारतीय टीम ने 336 रन की बढ़त हासिल करते हुए मेहमान टीम पर पूरी तरह से शिकंजा कस दिया है। दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा रन नंबर नौ बल्लेबाज केशव महाराज (72) और कप्तान फैफ डु प्लेसिस (64) रन बनाए. उनके अलावा नंबर नौ फिलांडर (44) ने भी उपयोगी पारी खेली।

इससे पहले दिन के आखिर में केशव महाराज और फिलांडर ने नौवें विकेट के लिए 109 रन की साझेदारी की। और इन दोनों ने अपनी टीम को 275 रन तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई. भारत के लिए आर. अश्विन ने सबसे ज्यादा चार और उमेश यादव ने तीन विकेट लिए। लेकिन इसके बावजूद दक्षिण अफ्रीका फॉलोऑन की गिरफ्त में आ गया है. दक्षिण अफ्रीका का आखिरी विकेट सही समय पर आया। टीम इंडिया को आराम का पर्याप्त समय मिलेगा और उम्मीद है कि कप्तान विराट कोहली चौथे दिन की सुबह दक्षिण अफ्रीका को फॉलोऑन देकर पारी के अंतर से मैच जीतने का लक्ष्य निर्धारित करेंगे। लेकिन देखने की बात यह होगी कि विराट फॉलोऑन देने का फैसला करते हैं, या टीम इंडिया फिर से बल्लेबाजी करेगी।

दक्षिण अफ्रीका ने शनिवार को दूसरे दिन के स्कोर 3 विकेट पर 36 रन से आगे खेलना शुरू किया. नॉर्जे और ब्रून से उम्मीद थी कि ये दोनों शुक्रवार शाम के सेशन में हुए अपनी टीम के नुकसान की भरपाई करेंगे, लेकिन ये उम्मीदें खोखली साबित हुईं, जब सुबह के तीसरे ही ओवर में मोहम्मद शमी ने ब्रून को स्लिप में विराट के हाथों लपकवाकर मेहमाम टीम को चौथा झटका दिया. इसके बाद दो ओवर ही गुजरे थे कि पिच पर काफी समय गुजार चुके डि ब्रून (30) को उमेश यादव ने विकेटकीपर साहा के हाथों लपकवा संकेत दे दिया कि पुणे में भी अफ्रीकियों की हालात बहुत ही खराब होने जा रही है.

क्विंटन डि कॉक (31) और कप्तान फैफ डु प्लेसिस ने पांचवें विकेट के लिए 75 रन जोड़कर एक उम्मीद जगाई थी कि यहां एक बड़ी साझेदारी देखने को को मिलेगी, लेकिन इस उम्मीद को भी आर. अश्विन ने छिन्न-बिन्न कर दिया. जमकर खेल रहे क्विंटन डि कॉक को एक बार को भरोसा ही नहीं हुआ कि गेंद उनकी गिल्लियां बिखेर गई. यहां से गनीमत यह रही कि एक छोर पर अर्द्धशतक बनाने वाले कप्तान फैफ डु प्लेसिस और मुथुसामी ने लंच तक और कोई नुकसान अपनी टीम को नहीं होने दिया। लंच के समय दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 42 ओवर में 6 विकेट पर 136 रन था। तब फैफ 52 और सामी 6 पर थे।

लंच के बाद का खेल शुरू होते ही भारत को जल्द ही सफलता मिल गई, जब रवींद्र जडेजा ने भोजन के बाद के तीसरे ही ओवर में मुथुस्वामी को एलबीड्बल्यू कर चलता कर दिया। एक छोर पर काफी देर से लंगर डाल चुके कप्तान फैफ डु प्लेसिस (64) के पास शतकीय पारी खेलने का मौका था, लेकिन अश्विन ने  उनके शतकीय अरमानों में तब पलीता लगा दिया, जब वह स्लिप में रहाणे के हाथों लपके गए। वह आउट होने वाले दक्षिण अफ्रीका के आठवें बल्लेबाज रहे। इस सेशन में भारतीय गेंदबाजों ने खूब जोर लगाया। कप्तान विराट ने भी बदल-बदलकर गेंदबाजों को लगाया, लेकिन हिस्से में आए सिर्फ यही दो विकेट। चायकाल के समय दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 77 ओवर में 8 विकेट पर 197 रन था. इस समय फिलांडर 23 और महाराज 21 पर थे।

वहीं दूसरे दिन की बात करें, तो भारतीय टीम के बल्लेबाजों ने जमकर ‘धमाल’ मचाया। जहां कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने नाबाद 254 रन (336 गेंद, 33 चौके, दो छक्के) की जबर्दस्त पारी खेली, वहीं मयंक अग्रवाल (108 रन) ने शतक जमाया। इस ‘रनवर्षा’ में शामिल होते हुए चेतेश्वर पुजारा (58), अजिंक्य रहाणे (59) और रवींद्र जडेजा (91) ने भी अर्धशतकीय पारियां खेलीं। बल्लेबाजों के इस जोरदार योगदान की बदौलत टीम इंडिया ने दूसरे दिन (India Vs South Africa, 2nd Test) चायकाल के बाद अपनी पहली पारी 5 विकेट पर 601 रन बनाकर घोषित की थी। जवाब में मेहमानों ने दिन का खेल खत्म होने पर 13.5  ओवर के बाद तीन विकेट खोकर 35  रन बनाए थे.  एडेन मार्कराम (0), डीन एल्गर (6) और तेंबा बावुमा (8) आउट हुए हैं. थिउनिस डि ब्रुइन 19 और नाइट वाचमैन एनरिच नोर्ट्ज एक रन बनाकर क्रीज पर थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.