Nokia और Nasa साथ मिलकर चांद पर लाएंगे 4G नेटवर्क

नई दिल्ली
को चांद पर 4G नेटवर्क स्थापित करने के लिए नासा ने एक कॉन्ट्रैक्ट दिया है। जी हां, अगर आप कभी चांद पर पहुंचकर फोटो ट्वीट कर पाते हैं तो आपको इसके लिए का शुक्रिया अदा करना होगा। नोकिया चांद पर 4G सेल्युलर कम्युनिकेशंस नेटवर्क के एक प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। इससे पहले भी कंपनी ने चांद पर हाई-स्पीड सेल्युलर कनेक्टिविटी लाने में रुचि दिखाई है लेकिन अब ने नोकिया को इस काम के लिए 14.1 मिलियन डॉलर दिए हैं।

NASA ने टेक्नॉलजी को डिवेलप करने के लिए 14 छोटी अमेरिकी कंपनियों को पार्टनर के तौर पर चुना है। ये कंपनियां इस दशक के आखिर तक चंद्रमा पर Artemis ऑपरेशन स्थापित करने में मदद करेंगी। नासा इसके लिए 370 मिलियन डॉलर खर्च कर रही है और नोकिया को इनफ्रास्ट्रक्चर डिवेलप करने के लिए 14.1 मिलियन डॉलर मिले हैं। सपष्ट कर दें Nokia of America Corporation को नासा ने इस मिशन के लिए चुनी गईं अमेरिकी कंपनियों में शामिल किया है।

यूनाइटेड प्रेस इंटरनैशनल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, नोकिया द्वारा डिवेलप किया गया सिस्टम ज्यादा दूरी, तेज स्पीड और ज्यादा बेहतर तरीके से चांद की सतह पर कम्युनिकेशन करने में सपॉर्ट कर सकता है।

चांद पर 4जी नेटवर्क लाने के लिए नोकिया की यह पहली कोशिश नहीं है। आपका याद दिला दें कि नोकिया ने इसी तरह की एक पार्टनरशिप का ऐलान वोडाफोन जर्मनी के साथ 2018 में की थी। कंपनी ने दावा किया था कि 2019 तक चांद पर 4जी कवरेज मिलेगी। लेकिन अभी तक कंपनी का यह वादा वास्तविकता में नहीं बदला है।

Go to Source