पिता -पुत्र रंगे हाथ पकड़े गए

पिता-पुत्र और एक खरीदार को दिल्ली पुलिस ने दबोचा

Vinod Sharma New Delhi :दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने लग्जरी कार में हथियारों की तस्करी करने वाले पिता-पुत्र और एक खरीदार को सोमवार सुबह आश्रम मेट्रो स्टेशन के पास दबोच लिया। इनके पास से 1250 कारतूस बरामद हुए।

इतने बड़े पैमाने पर हुई कारतूसों की बरामदगी को दिल्ली पुलिस की एक बड़ी कामयाबी माना जा रहा है। पुलिस के हत्थे चढ़े तस्कर दिल्ली, हरियाणा, यूपी, बिहार, राजस्थान व मध्य प्रदेश के बदमाशों को हथियारों की सप्लाई करते थे।

लग्जरी कार में सवार तस्करों में यूपी के फिरोजाबाद निवासी प्रवीण कुमार वर्मा और उसका बेटा प्रतीक शामिल हैं। दोनों दस सालों से हथियार तस्करी में लिप्त हैं। वहीं, कारतूसों का खरीददार सोनू मदनपुर खादर में रहता है। वह मूल रूप से राजथान के धौलपुर का रहने वाला है। इन से पुलिस ने एक लग्जरी कार व बुलेट भी बरामद की है। स्पेशल सेल के डीसीपी मनीषी चंद्रा ने बताया कि स्पेशल सेल को पता चला कि फिरोजाबाद निवासी प्रवीण कुमार वर्मा नाम का शख्स अवैध हथियारों की तस्करी करता है। सोमवार को पुलिस को पता चला कि प्रवीण कुमार वर्मा, एक अन्य शख्स के साथ आश्रम रिंग रोड पर हरि नगर स्थित आश्रम मेट्रो स्टेशन के पास एक गोल्डन कलर की यूपी नंबर की लग्जरी कार में सवार होकर आने वाला है। सूचना के आधार पर पुलिस टीम ने तीनों आरोपों को मौके पर आते ही दबोच लिया।

प्रवीण की पहले लाइसेंसी कारतूस मुहैया कराने की दुकान थी। पिता की मौत के बाद वह इस दुकान को संभालता था। लेकिन आपराधिक मामले दर्ज होने के बाद उसकी दुकान बंद हो गई तो उसने कृत्रिम गहनों की दुकान खोली, लेकिन इस कारोबार में उसका मन नहीं लगा। इस कारण उसने चोरी छिपे हथियारों की तस्करी करने का काम शुरू किया। प्रवीण ने अपने बड़े बेटे प्रतीक के साथ, एटा, इटावा, मैनपुरी, फिरोजाबाद और अन्य स्थानों पर अपने संपर्कों से कारतूस इकट्ठा किए और फिर उन्हें विभिन्न राज्यों में 200 से 400 रुपये बेच देता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.