धोनी ने खुद लीखी अपनी किश्मत

Netvani Desk  : कुछ लोग अपनी किस्मत लेकर पैदा होते हैं, लेकिन कुछ विरले लोग ऐसे भी होते हैं जो पैदा होने के बाद अपनी किस्मत बनाते हैं और महेंद्र सिंह धोनी उन्हीं लोगों में से हैं . कैसे रांची के एक छोटे से शहर निकलकर धोनी क्रिकेट के दुनिया के महानायक बन गए .

सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के भगवान हैं . तो महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट के वो महानायक हैं, जिन्होंने अपने 15 साल के करियर में भारतीय क्रिकेट फैंस का हर सपना पूरा किया . चाहे मुश्किल घड़ी में टीम की कमान संभालने की बात हो, या फिर टीम इंडिया का वर्ल्ड कप का इंतज़ार खत्म करने की . धोनी ने हर नामुमकिन को मुमकिन कर दिखाया.

धोनी ने अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को क्रिकेट के तीनों ही फॉर्मेट में टॉप पर रखा, तो अपनी दमदार बल्लेबाज़ी से वो दुनिया के नंबर वन फिनिशर भी बने  वहीं विकेटकीपिंग में भी धोनी के सामने कोई टिक नहीं पाया . धोनी ने मैदान पर ऐसे-ऐसे मैजिक दिखाए कि क्रिकेट की दुनिया उन्हें मैजिकल माही के नाम से जानने लगी . जिस वजह से रांची के छोटे से शहर से निकलकर आए धोनी बन गए भारतीय क्रिकेट के महानायक धोनी . भारतीय क्रिकेट के लिए धोनी ने जो किया, वो कोई नहीं कर पाया . क्योंकि धोनी ने क्रिकेट फैंस को बताया कि सपने भी सच होते हैं .

तीनों खिताब जीतने वाले धोनी दनिया के एकमात्र कप्तान हैं . धोनी ने सबसे पहले साल 2007 में टीम इंडिया को पहले वर्ल्ड टी-20 का चैम्पियन बनवाया . तो 2011 में धोनी की कप्तानी में ही टीम इंडिया दूसरी बार वनडे की वर्ल्ड चैम्पियन बनी . वहीं 2013 में धोनी ने आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी में भी टीम इंडिया को चैम्पियन बनाया .इसके अलावा 2009 में धोनी की कप्तानी में ही टीम इंडिया टेस्ट में भी पहली बार नंबर वन बनी थी.

महेंद्र सिंह धोनी की कहानी किसी फिल्म की तरह है . जिसमें एक लंबे बाल वाला लड़का टीम इंडिया में आया और सुपरहीरो बनकर क्रिकेट की दुनिया में छा गया . पहले धोनी के बल्ले से ब्लास्ट हुआ . और 2007 में युवा खिलाड़ियों से सजी सेना के साथ धोनी ने पूरे क्रिकेट जगत को हिलाकर रख दिया . साल 2007 में वर्ल्ड टी-20 खिताब से धोनी ने कप्तानी में ऐसा धमाका किया, कि वो भारत के सबसे सफल कप्तान बन गए क्रिकेट के मैदान पर धोनी-धोनी की गूंज सुनाई देने लगी . और माही एक के बाद एक मिशन को कामयाब बनाते चले गए . कप्तानी मिलते ही धोनी ने देश के हर एक सपने को पूरा किया .

सचिन के प्रति लोगों का प्रेम था, तो धोनी भरोसे का दूसरा नाम बनते गए और फिर धोनी ने वर्ल्ड कप की ब्लैक एंड व्हाईट तस्वीर को भी रंगीन बना दिया . धोनी ने साल 2011 में इस सिक्स के साथ वर्ल्ड कप के 28 साल के इंतज़ार को भी खत्म कर दिया . और आज भी धोनी के इस छक्के को देखकर हर हिंदुस्तानी का चेहरे खिल जाता है .

इसके बाद धोनी ने साल 2013 में देश को आईसीसी का तीसरा बड़ा टूर्नामेंट यानि चैम्पियंस ट्रॉफी का भी चैम्पियन बनाया . और ऐसा करने वाले धोनी आज भी दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं . चाहे कप्तानी हो, बल्लेबाज़ी हो, या फिर विकेटकीपिंग . धोनी ने जो कर दिया, वो कोई नहीं कर पाएगा . धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने सबसे ज्यादा टेस्ट मैचों में जीत दर्ज की है . तो धोनी ने वनडे में भी टीम इंडिया को सबसे ज्यादा मैचों में जीत दिलाई है .

धोनी ने टीम इंडिया को सबसे ज्यादा 27 ‘टेस्ट मैचों में जीत दिलाई है .
तो वनडे में भी धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम को सबसे ज्यादा 110 मैचों में जीत मिली है. धोनी वनडे में विकेट के पीछे तीसरे सबसे ज्यादा 444 शिकार कर चुके हैं .तो बल्लेबाज़ी में 10 हज़ार से ज्यादा वनडे रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों की लिस्ट में चौथे नंबर पर हैं . 350 वनडे में 10 शतक के साथ 10773 रन बना चुके हैं धोनी . जबकि 90 टेस्ट में 6 शतक और 38.07 की औसत से धोनी ने 4876 रन बनाए हैं .

धोनी सिर्फ एक नाम नहीं, बल्कि भारतीय क्रिकेट की शान हैं . और धोनी ने भारतीय क्रिकेट के लिए जो किया है, उसके लिए हर हिंदुस्तानी धोनी को सलाम कर रहा .

Leave a Reply

Your email address will not be published.